A Non-Profit Non-Commercial Public Service Initiative by Alka Vibhas   
तुम मुझे खून दो

तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा
मोह-शृंखला तोड दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा

सुजलां सुफलाम् मातृभूमीला
मुक्त कराया हिमालयाला
खड्ग-हस्त मज हवेत बोला
तुम मुझे तन-मन-धन दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा

युद्ध नव्हे हा यज्ञ पेटला
अर्घ्य द्यावया रणचंडीला
खडे व्हा आता बलिदानाला
तुम अपना बलिदान दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा
गीत -
संगीत - वसंत देसाई
स्वर-
चित्रपट - इये मराठीचिये नगरी
गीत प्रकार - चित्रगीत, स्फूर्ती गीत
अर्घ्य - पूजा / सन्मान.