A Non-Profit Non-Commercial Public Service Initiative by Alka Vibhas   
मद्य-वपु-घट लत्ताप्रहारें

मद्य-वपु-घट लत्ताप्रहारें फुटत हे,
रुधिरसम मत्तमद वाहे, न भू भार साहे ॥

मधु-वध-कुपित समर जरि गुरुवर करी घोर,
विगतविजय कच नोहे ॥
मत्त - माजलेला, दांडगा.
मद - उन्माद, कैफ
रुधिर - रक्त.
वपु - शरीर.
विगत - नाहीसे झालेले / निष्प्रभ, निस्तेज.

 

  विश्वनाथ बागूल