A Non-Profit Non-Commercial Public Service Initiative by Alka Vibhas   
राजा शिवछत्रपती

इंद्र जिमि जंभ पर
बाडव सुअंभ पर
रावण सदंभ पर
रघुकुलराज है!

पौन बारिबाह पर
संभु रतिनाह पर
ज्यों सहसबाह पर
राम द्विजराज है!

उदरात माउली
रयतेस साउली
गडकोट राउळी
शिवशंकर हा

मुक्तीची मंत्रणा
युक्तीची यंत्रणा
खल दुष्टदुर्जना
प्रलयंकर हा

संतांस रक्षितो
शत्रू निखंदतो
भावंडभावना
संस्थापितो

ऐसा युगेयुगे
स्मरणीय सर्वदा
माता-पिता-सखा
शिवभूप तो

दावा दृमदंड पर
चीता मृगझुंड पर
भूषन वितुंड पर
जैसे मृगराज है!

तेज तमअंस पर
कन्ह जिमि कंस पर
त्यों मलिच्छ बंस पर
सेर सिवराज है!

जय भवानी, जय शिवाजी!
गीत- कवी भूषण शिरिष गोपाळ देशपांडे
संगीत - अजय-अतुल
स्वर - अजय गोगावले
गीत प्रकार - मालिका गीते प्रभो शिवाजीराजा स्फूर्ती गीत
  
टीप -
• शीर्षक गीत, मालिका- राजा शिवछत्रपती, वाहिनी- स्टार प्रवाह.
कोट - तट, मजबूत भिंत.
खल - अधम, दुष्ट.
निखंदणे - निषेध करणे, निंदा करणे.
राऊळ - देऊळ.