A Non-Profit Non-Commercial Public Service Initiative by Alka Vibhas   
सुरत पिया की न्‌ छिन्‌

सुरत पिया की न्‌ छिन्‌ बिसुराये
हर हरदम उनकी याद आये

नैंनन और न कोहू समाये
तडपत हूँ बिलखत रैन निभाये
अखियाँ निर असुवन झर लाये

साजन बिन मोहे कछु ना सुहावे
बिगडी को मेरे कौन आ बनावे
हसनरंग आ सो जी बहलावे

 

  पं. वसंतराव देशपांडे