A Non-Profit Non-Commercial Public Service Initiative by Alka Vibhas   
अंग अंग तव अनंग

अंग अंग तव अनंग खुलवि मदनमंजिरी
देवदूत याचितात सुखद-संग माधुरी

मंद मंद हसित-लसित
वदन प्रणयरंग सदन
रूपरंग बहर तुझा कहर करी अंतरी

तव यौवन रंगदार
चाल तुझी डौलदार
जादुभरे नैनबाण हरिति प्राण सुंदरी
अनंग - मदन.
मदनमंजिरी - सुंदरी.
लसित - आनंदी, उल्लसीत.