A Non-Profit Non-Commercial Public Service Initiative by Alka Vibhas   
राधे तव रुसवा का

राधे तव रुसवा का गे?
प्रेम-सुधारस मधुर मधुर पी गे !

तव सुखनिधान श्याम गुणवान
तयास तू सनमान दे गे

क्षणभंगुर तारुण्य-कहाणी
अमर प्रीत-वरदान घे गे