A Non-Profit Non-Commercial Public Service Initiative by Alka Vibhas   
तेजा नभिं ज्या साहवेना

तेजा नभिं ज्या साहवेना,
तें देई मृदुला शोभा नयना ॥

सत्या कठोरा ज्या सोसवेना,
करि तेंचि तव मुख मधु मना ॥

बहु दु:ख संसार, परि दे जनां
अति सौख्य साध्वीसंगें जाणा ॥
गीत- कृ. प्र. खाडिलकर
संगीत - गंधर्व नाटक मंडळी हिराबाई बडोदेकर
स्वर - गंगाधर लोंढे
नाटक- संगीत विद्याहरण
चाल-'सांकल्पमे टीदो' या कानडी चालीवर.
गीत प्रकार - नाट्यगीत